Home => Tag Archives: Stories

Tag Archives: Stories

खाली पेट खाएंगे लहसुन तो दूर होंगे पेट के विकार

garlic

दाल या सब्जी में जब तक लहसुन का तड़का न लगे तो खाने में मजा नहीं आता, फिर चाहेे लहसुन छीलनेे में पसीना क्यों न आ जाए. हालांकि कुछ लोगों को इसका तड़का तो पसंद है पर कच्चा लहसुन खाने से अक्सर लोग परहेज करतेे हैं. पर दादी माएं अक्सर …

Read More »

प्रेम की होली

holi

मुंशी प्रेमचंद्र गंगी का सत्रहवाँ साल था, पर वह तीन साल से विधवा थी, और जानती थी कि मैं विधवा हूँ, मेरे लिए संसार के सुखों के द्वार बन्द हैं। फिर वह क्यों रोये और कलपे? मेले से सभी तो मिठाई के दोने और फूलों के हार लेकर नहीं लौटते? …

Read More »

साँप

kahani

“री, लक्खे तरखान के तो भाग खुल गए।” “कौण?… ओही सप्पां दा वैरी?” “हाँ, वही। साँपों का दुश्मन लक्खा सिंह।” “पर, बात क्या हुई?” “अरी, कल तक उस गरीब को कोई पूछता नहीं था। आज सोहणी नौकरी और सोहणी बीवी है उसके पास। बीवी भी ऐसी कि हाथ लगाए मैली …

Read More »

बाज़ार बाज़ार

4.

मैं तो पहचान ही नहीं पाया उन्हें। कहाँ वो अन्नपूर्णा भाभी का चिर-परिचित नितांत घरेलू व्यक्तित्व, और कहाँ आज उनका ये अति आधुनिक रूप! चोटी से पाँव तक वे बदली-बदली-सी लग रही थीं। वे कस्बे के नए खुले इस फास्टफूड कॉर्नर से जिस व्यक्ति के साथ निकल रही थीं, वह …

Read More »

बारिश की रात

barish

आरा शहर। भादों का महीना। कृष्ण पक्ष की अँधेरी रात। ज़ोरों की बारिश। हमेशा की भाँति बिजली का गुल हो जाना। रात के गहराने और सूनेपन को और सघन भयावह बनाती बारिश की तेज़ आवाज़! अंधकार में डूबा शहर तथा अपने घर में सोये-दुबके लोग! लेकिन सचदेव बाबू की आँखों …

Read More »

छोटा किसान

kisan

दाहू महतो अपने खेत की मेंड़ पर गुमसुम से खड़े हैं। करीब सौ डेग पर एक विशाल बूढ़ा बरगद खड़ा है जो इस तरह झकझोरा जा रहा है मानो आज जड़ से उखाड़ दिया जायेगा। साँय-साँय बेढंगी बयार आड़ी-तिरछी बहे जा रही है, जैसे एक साथ पुरवैया, पछिया, उतरंगा और …

Read More »

माँ आकाश है

kahani

बाप जहाज का मास्टर था। माँ एक अफ़सर की बेटी। दोनो का संयोग विवाह में बदला। दोनो बंदरगाह–बंदरगाह घूमे। समुद्र के साथ एक और सागर बहता चलता था। मदिरा का। जहाज़ पति चलाता पत्नी टावर में साथ बैठकर धीरे–धीरे चुस्की लेती। बीच–बीच में मास्टर भी गुटक लेते थे, प्यार में …

Read More »